POLITICAL CONSULTING    ELECTION CAMPAIGN MANAGEMENT    VOTERS MOBILIZATION    ELECTION STRATEGY MANAGEMENT    MEDIA COMMUNICATION    DIGITAL CAMPAIGNING    POLITICAL TRAINING    ALL UNDER ONE ROOF

नोट बंदी का फैसला ! अपने ही बुने जाल में फसते जा रहे है मोदी और बीजेपी ? जानिए क्यों और कैसे ?

Political Consultant India,Business Consultant India,Political Consultant India

नोट बंदी के साइड इफेक्ट्स के बारे में बड़े बड़े इकोनॉमिस्ट और टीवी चैनल भी जो न जान पाए थे  वो इस बिज़नस कंसलटेंट ने ९ नवम्बर को ही बता दिया था की किस तरह की अफरा तफरी फैलेगी बाजार में . आज सारी मीडिया वही रिपोर्ट कर रही है ! पढ़िए पूरी रिपोर्ट .Read Article click To Understand Detail Economic Impact Mechanism Of Currency Ban link-       https://goo.gl/Wi2OX4

नोट बंदी के साइड इफेक्ट्स के बारे में संभवत बीजेपी ने सोचा भी नहीं होगा की माइक्रो इकोनॉमिक्स के आधारभूत सिधान्तो के हिसाब से इसके साइड इफेक्ट्स देश की जनता और बाजार पैर क्या पड़ेगा और ये इफेक्ट्स किस तरह से जनमानस और उनकी विरोधी पार्टियों को उनके खिलाफ ला सकती है .

अभी तक बिना खरोच के सर्जिकल स्ट्राइक करने वाली बीजेपी का ये सर्जिकल स्ट्राइक शायद आत्मघाती साबित हो.
नोट बंदी के कारण आम जनता की जो समस्याएं आएगी धीरे धीरे जनता उनके विरोध में हो जाएगी और फिर सुरवात का ये छोटा सा विरोध व्यापक रूप ले लेगा .बाद में विरोधी पार्टियों के समर्थन के कार्ड ये विरोध और बढ़ता जायेगा .

इसके पहले तक बीजेपी की राजनितिक सफलता इस बात में छिपी थी की उनोहे  कभी भी सारे विरोधी पार्टियों को एक नहीं होने दिया |संभवत ये पहला मौका है जब की मोदी जी ने सारे विरोधी पार्टियों को एक साथ आने का अवसर दे दिया हो.

नोट बंदी से आम जनता और बाजार को क्या दिक्कते आएगी और कैसे उनका विचार मोदी विरोध में बदल जायेगा – ये जानने के लिए पूरी रिपोर्ट पढ़े क्लिक करे – https://goo.gl/Wi2OX4

भले ही सरकार और मोदी जी ये दावा कर रहे हो की सिर्फ पचास दिनों में सारी चीज़े सही हो जाएगी पर नोट बंदी के कारण क्रमिक समयस्याओ का एक दौर चल पड़ता है और हर समस्या एक चैन लिंक की तरह काम करती है इसलिए इसका प्रभाव काफी दिनों तक रहेगा . इसका प्रभाव प्रथम चरण में लोगो के पास नगदी धन की कमी के रूप में दिखेगी – फिर सारी बाजार व्यस्था ढप पद जाएगी – अगले चरण में फैक्ट्री का प्रोड्यूक्शन्स बंद होने के बाजार में वस्तुओ की सप्लाई कम हो जाएगी जिससे बाजार में रोजमर्रा के सामान की कमी होगी और जनता परेशान होने लगेगी.
इसमें कोई शक नहीं की उद्द्येश अति उत्तम है पर लगता है की बीजेपी ने इस व्यस्था परिवर्तन के तरीके के बारे में ठीक से ध्यान नहीं दिया . ध्यान रखने वाली बात ये है की एक बार अगर बाजार व्यस्था पटरी से उत्तर जाये तो उसे वापस लेन में सालो लग जाते है. अतः इस परेशानी का इलाज बीजेपी के पास सालो तक नहीं है.

Political Consultant India,Election Campaign Management Companies In India

******************************************************************************************

READ OUR OTHER VIRAL ARTICLE RELATED WITH EFFECTS OF CURRENCY BAN

CURRENCY BAN – SUDDEN SIDE EFFECTS ON BUSINESS & SOCIETY- WHAT NEXT ?

http://theconsultants.net.in/side-effects-of-500-1000-rs-currency-ban-on-business-community/

SOCIO POLITICAL EFFECTS OF 500 & 100 RS CURRENCY BAN ON BJP IN ELECTIONS

http://politicalconsultant.co.in/socio-political-effetcs-500-100-rs-currency-bann/

नोट बंदी का फैसला ! अपने ही बुने जाल में फसते जा रहे है मोदी और बीजेपी ? जानिए क्यों और कैसे ?

https://goo.gl/nFe1qY

Currency Ban GST & Other Reforms – Big Business Expansion Opportunities For Small & New Entrepreneurs

https://goo.gl/gQF7ny

कही फीका ना पड़ जाये आपका चुनाव प्रचार अभियान कैश / नगदी की कमी के कारण ? एक्सपर्ट से जानिए कैसे करे मैनेज ?

https://goo.gl/BBNrfs

—————————————————————–

Political Consultant India

Election Campaign Management Companies In India

 

Print Friendly
Share This
FacebookTwitterGoogle+PinterestTumblrWhatsAppLinkedInRedditStumbleUponAOL MailApp.netBaiduAIMBlogger PostBuddyMarksBufferCare2 NewsBalatarinDiigoEmailDiasporaDeliciousDiggGoogle ClassroomEvernoteGoogle GmailHacker NewsGoogle BookmarksMixiLineNUjijPinboardMail.RuMySpaceVKSina WeiboPushaPlurkYummlyWordPressWebnewsPocketShare

Comments

comments

Translate »
error: Content is protected !!